नीम के फायदे

* कड़वा नीम मीठे गुणों से भरपूर होता है। नीम की पत्तिया, नीम का बीज, नीम का तेल और नीम की छाल…. नीम के पेड़ का हर भाग हमारे लिए उपयोगी है। इस लेख में हम नीम के फायदे और उपयोग के बारे में जानगे। हम यह भी जानगे की इसका उपयोग किस-किस तरह से किया जा सकता है। हम नीम से जुडी ढेर सारी छोटी बड़ी बाते जानगे।

नीम के फायदे और उपयोग

* नीम का तेल मसूड़े की सूजन और दाँतो की सड़न दूर करने में मदद करता है। यह दात दर्द, दाट का कैंसर, दात के सड़न अदि में भी फायदा पहुचता है।

* अगर आपको रुसी, लीखे, या जुए की समस्या हो तो नीम का तेल नियमित सर में लगाने से इन सब समस्यों से मुक्ति मिल जायगी।

* नीम के बीज से बने तेल को लगाने से झुर्रियां काम होती है।

* नीम के पत्तो का रस चहरे पर लगाने से मुँहासे खत्म हो जाते है।

* नीम के बीज का तेल तत्व को नर्म, चिकना और चमकदार बनता है। यह त्वचा को दाग धबो से मुक्त करता है।

* नीम के बीज का तेल सोरेसिस, एक्ज़िमा, मुँहासे आदि में लाभदायक है।

* नीम की पत्तियों का रस पिने से खून साफ होता है।

* नहाते समय नीम की ताजी पत्तियों को पानी में डालकर नाहना भी त्वचा के लिए अच्छा होता है।

* नीम की पत्तियों को पानी में उबालकर, पीसकर पेस्ट बना लियजीए, अब पेस्ट में शहद मिलाकर बालो में लगाने से रुसी खत्म हो जाती है और बाल मुलायम और चमकीले हो जाते है।

* जलने के वजह से होने वाले जख्म पर नीम का तेल लगाने से जख्म ठीक हो जाता है।

* नीम के बीज और पत्तियों से बानी चाय किडनी, मुत्रास्य और प्रोस्टेट से जुडी बीमारियो में असरदार है।

* नीम के बीज का तेल घर में कीटाणुओ को दूर रखता है।

* नीम के बीज को पीसकर रत भर पानी में भिगोकर रखने और सुबह इस पानी को फसलो पर छिडकने से फसल में लगे हुए कीटाणु मर जाते है। सबसे बड़ी बात इसका फसलों या मिटी पर बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है।

* अगर आपको पेट में कीड़ो की समस्या ही, तो नीम के पत्तो के रस में शहद मिला कर काली मिर्च कर लियजीए यह फायदा पहुचायेग।

* नीम के पत्तो को मसलकर गर्म पानी में डाल कर छान ककर पिने से कब्ज़ दूर होता है।

* नीम की पत्तियों को सुखाकर चीनी मिलाकर खाने से दस्त खत्म हो जाते है।

* सुबह के वक्त नीम का जूस पिने से डायबिटीज़ कण्ट्रोल में रहता है। नीम के छाल और मेथी के चुरन को मिलाकर काढ़ा बनाकर कुछ दिन तक पिने से डायबिटीज़ में फायदा पहुचता है।

नीम के पत्तियों का जूस और एलोविरा जूस के साथ मिलाकर रोज़ाना खाली पेट पिने से शुगर नियंत्रित होता है।

* नीम की पत्तियों का महीने में 10 दिन सेवन करने से हार्ट अटैक का खतरा काम हो जाता है।

* नीम की पत्तियों के साथ शहद मिलाकर सेवन करने से पीलीया रोग कम हो जाता है।

* नीम मलेरिया को नयंत्रित करके बढ़ने से रोकता है।

* चिकन पाक्स के दाग को खत्म करने में लिए नीम के रस को प्रभावित हिस्से में लगाना चहिये।

* ग्रभावस्ता को रोकने के लिए नीम के तेल का उपयोग लुब्रिकेंट के रूप में किया जाता है।

* मसूड़ो से खून आना, या पारीया होने पर नीम की छाल या पत्तो को पानी में डालकर कुल्ला करने से लाभ होता है।

* नीम का रस पानी से त्वचा के भीतर की गंदगी दूर हो जाती है।

* नीम के रस से युक्त ऑय ड्राप आँखो के लिए फायदेमंद होता है।